Planet D kya hai? Kya Planet D Main Earth se bhi jyada pani hai?

Planet D Kya Hai? Kya Planet D Main Earth se bhi jyada pani hai?

हमारा ब्रम्हांड कई रहस्य से भरा हुआ है जिसमें से कई सरे चीज़ों के बारें मैं आज भी हम नहीं जानते चाहे बो aliens का महजूदि हो या कोई नया planet. सदियोंसे हमारे space researchers को चौका देने बलि बात हर रोज पता चलता है ।  और उनमें से एक हाली मैं पाया गया है।

ESA जिसे हम European Space Agency के नाम से जानते हैं हाली ही मैं उन्होंने एक नया planet को ढूंढा है। जिस का नाम Planet D रखा गया है. दबा किया जारहा है की नया Planet D पे earth से भी ज्यादा पानी महजूद है।  तो चलिए इस  blog मैं हम आपको बताते हैं Planet D क्या है and researchers इसके बारें मैं क्या बोलते है। 

Planet D kya hai

Planet D kya hai? 

European Space Agency (ESA) के exoplanet-hunting cheops उपग्रह ने एक Star System में एक तीसरा ग्रह को पाया है, जिसके बारे में पहले माना जाता था कि उसके पास केवल दो planet हैं। एक अनोखे photobomb में खोजे गए तीसरे ग्रह में हमारे earth से कहीं ज्यादा पानी होने का claim किया जा रहा है ।

Astronomers तीसरे ग्रह के पर आ गए क्योंकि यह एक दुर्लभ ग्रह के विवरण का खुलासा करते हुए तारे के पार चला गया “बिना किसी ज्ञात समकक्ष के।” यह पहली बार है कि 100 दिनों से अधिक की कक्षा के साथ एक exoplanet को एक star को पार करते हुए देखा गया है जो नग्न आंखों को दिखाई देने के लिए पर्याप्त चमकीला है। 

Nu2 Lupi नामक star system पृथ्वी से lupus (भेड़िया) के stars में केवल 50 प्रकाश-वर्ष दूर स्थित है; और पिछले observation ने दो ग्रहों को इसकी परिक्रमा करते हुए देखा था। तारे का नाम star A था और दो ग्रहों को Planet B और Planet C के रूप में दर्शाया गया था। नवीनतम जोड़ को Planet D नाम दिया गया है। 

Exoplanet का द्रव्यमान पृथ्वी और नेपच्यून के बीच होता है । Planate का कक्षाएँ के सैंकड़ो  11.6, 27.6  होने के साथ साथ 107.6 दिनों तक तारे के चारों ओर चलती हैं। ESA ने Belgium का एक University Laetitia Delrez के अध्ययन करते बक्त प्रमुख लेखक के हवाले कहा, “New 2 Lupi जैसका Transiting systems हमारी समझ में सबसे महत्वपूर्ण हैं कि ग्रह कैसे बनते और विकसित होते हैं, क्योंकि हम एक ही चमकीले तारे के चारों ओर कई ग्रहों की तुलना करना चाहते हें ।

पृथ्वी के 2.5 गुना और हमारे ग्रह के द्रव्यमान के 8.8 गुना के दायरे वाले exoplanet की बात करें तो नया पाया गया ग्रह अद्वितीय है। कई अन्य खोजे गए exoplanet की तुलना में Planet D तक पहुंचने वाले तारकीय विकिरण (Sun light) की मात्रा भी हल्की है। Researchers का मानना ​​है कि अगर इसे हमारे सौर मंडल में रखा जाए तो यह बुध और शुक्र के बीच की कक्षा में होगा। 

Researchers ने पाया कि Planet B मुख्य रूप से चट्टानी है, जबकि Planet C और Planet D में बड़ी मात्रा में पानी है। “Planet C और Planet D में पृथ्वी की तुलना में कहीं अधिक पानी होता है: प्रत्येक ग्रह के द्रव्यमान का EAC ने एक बयान में कहा “एक चौथाई भाग पानी से बना होता है , यह पानी तरल नहीं है, बल्कि high pressurized ice या high pressurized vapour तापमान वाली भाप के रूप में होता है ” 

Kya Planet D Main Inssan reh sakte hain? 

रहने योग्य स्थितियों के बारे में बात करते हुए, EAC का Cheops project scientist Kate Isaak ने कहा कि हालांकि इनमें से कोई भी ग्रह रहने योग्य नहीं होगा, उनकी विविधता प्रणाली को और भी रोमांचक बनाती है, और यह परीक्षण करने के लिए एक महान भविष्य की संभावना है कि ये शरीर कैसे बनते हैं और समय के साथ बदलते हैं। 

Researchers ने अप्रैल और 6 जुलाई 2020 के बीच छह अवलोकनों पर संकलित डेटा का अध्ययन किया, जिसमें Planet B के चार पारगमन और Planet C के तीन को लक्षित किया गया था।

असा करते  हैं कि इस blog से आप को कुछ सीखनेके लिए मिला होगा 

इसी तरह और interesting topics पे knowledge पाने के लिए आप हमारे trending section पइ visit  कर सकते हैं ।

ये blog आपको केसा लगा हमे जरुर comment करके बताइये.

Share this with your friends
Default image
Sandeep Choudhury
मैं Sandeep, Gyanabigyan का founder के साथ Writer बि हूँ । Education की बात करूँ तो मैं Computer Science Engineering क्षेत्र में स्नातक की पढ़ाई किया हूँ । New technology के बारे में सीखने और दूसरों को सीखने में मेरी बहुत interest है । मेरे द्वारा संपादित किये गये article में आपको बहुत कुछ सीखने की मिलेगा ।
Articles: 12

Leave a Reply